Fire in the Mortal Urn

Few see
Many don’t
The vain yearning

Dark borders
Squeeze close
Gloom is gaining

Crushed
Bruised
Yet it glows

It Shines
What is me
One within knows

The fire
My gift
Keeps glowing

Dimly first
Brighter next
Keeps growing

No reason
No need
Just to burn

Living
Celebrating light
Inside the mortal urn

जिंदगी की कहानी

मिला उन सबसे
मेरी यादें हैं जो
हर लम्हों कि महक महसूस कर ली
ऐसा लगा जिंदगी फिर जी ली

हंसी के पल
ठहाके लगा कर जी लिए
फिर खुराफात के मौके ढूँढ लिए
फिर बचपन कि बेचैन दस्तक सुन ली

गले लगा के धड़कनों को पहचान लिया
उनकी खुशबु का असर देर तक महसूस किया
कभी दूर ना थे, ये एहसास हुआ
ऐसा लगा कि फिर उसी पल की नजाकत देख ली

हर शख्स जो मिला
जिंदगी का हिस्सा बन गया
वो मेरी और मैं उनकी कहानी बन गया
उनसे मुलाकात कर ऐसा लगा
फिर यादों में अपनी जिंदगी की कहानी सुन ली

यादों का खजाना

हर दिन का हिसाब है
बुने नए कई ख्वाब हैं
कुछ रह गए खयालों में
कुछ हकीकत कि मिसाल हैँ ।

ख्वाबों से जिंदगी चुराई है
दिल भर कर जिया है।
हर लम्हा अनमोल था
यादों में कैद किया है।

यादों की चुस्की लेकर
फिर उन दिनों का मज़ा लेंगे
ख्वाबों का क्या है
फिर हिसाब लगा लेंगे

Right now I have this day to finish

Each box ticked
Whew!! the work is done.
the day draws to an end
and we count it as one.

Rising again with the sun
Unwilling to start the next count
Yet eager to finishing this one
boxes to be ticked, once again mount

Each count ends in a week,
quitely into a month, the week crept
I celeberate the birth one more time
Counting the many nights I have slept

Counting the nights was easy,
For the sleeping part I was sure.
Did I wake up or just sleep walked?
Of the day I was not sure.

On the moving tread I walked
counting the steps and time,
Achievements recorded on the counter
Celeberations for with every chime

I ran and walked
moving constantly on the set pace
Tired and exhausted,
yet competing the static race

In this race, I am running.
finish line is everyone’s dread
Yet in the race
I run faster instead.

I know I have another half to live
For doing all the things I wish
there will be time to live my life
But now, I have this day to finish

चलो नई कहानी लिखें

अपनी स्याही
अपने किरदार
एक कहानी हो गयी

एक से मोहबत
और एक से नफरत
क्या कहानी हो गयी

नाम किरदार का याद रहा
अपनी पहचान भूल गए
कहानी, एक सच्चाई हो गयी

किरदारों से वाह वाह
ये अब कैसी उम्मीद है जो
अजब बेबसी हो गयी

नए रंग की दवात ली है
नए रंगों से नए किरदार लिखेंगे
एक हसीन कहनी हो गयी