I am the dusk

I am the dusk
then it will be dark
fiery ball cools
weary of the scorching day
sliding down rapidly
pulling the rays down
pausing briefly at the rim
Just for one last look
at its creation
before it is night
last stroke of golden brush
paints the sky crimson
I am the dusk
slowly turning dark
last rays lingers on my wings
warming it, to be alive
it no time to be trapped
its my final flight
I reach out to the glowing light
and I soar
its a new day

Behind the blinding Glow

He is a performer
puts up a show
he is a star
turns up the glow

there he shoots up
blazes the sky
bursting open
into millions, up high

the blaze is blinding
he is the light
there is no darkness
in the smile so bright

Show’s over
everyone’s happy
the tickets are strewn
the place looks crappy

The mask is peeled
grin stays pasted
the night is over
the dawn lays wasted

its a new day
all over again
there will be a new act
for he has to entertain

he is a performer
he puts up the show
no one sees the tear
behind the blinding glow

सोई धूप

Picture credit – Anjali my daughter

वो आई धूप
बंद खिड़कियों के शीशों से
कमरे कि देहलीज़ लांघ कर
वो लाई धूप
उस दूर जलती आग कि आंच
हथेली में बचा कर
किरनों की गुस्ताख हाथों ने
चुपके से मला
वो आलसी गर्माहट मेरे गालों पर
दूर से आई आंच
मेरे पल का हिस्सा बन गई
कुछ कहा नहीं
पर कुछ एहसास सा दे गई
कुछ कहते कहते
यूँ आंख सी लग गई
कुछ देर मेरे साथ
वो धूप भी सो गई

नयी सुबह

कुछ खो सा गया है
ऐसा एहसास है।
क्या कोई चमन था
जो खो गया है?

खून की बारिश
कुछ थम सी गई है,
खुला आसमान
कुछ नया सा लगता है।

खौफ का आलम
कुछ ऐसा था कि,
इस खामोश अमन
की आदत नहीं थी।

हालात बदलेंगे
शक इस बात का हर वक़्त रहा,
अपनी खुश नसीबी का
अर्से से एतबार नहीं है।

इतना झूट से रिश्ता
गहरा हो गया है,
सच्चाई पे अब
विश्वास ही नहीं है।

शायद,
मौसम बदल रहा है,
नया आलम आने को है,
कुछ खोने का एहसास है तो सही,
पर शायद पाने का डर भी भरा है।

आओ आंखें मलें,
और अपने नसीब को सवार लें।
खौफ और शक की रात गई
नयी सुबह होने को है।

माँ कि सालगिरह

सुबह बात हुई
सालगिरह की बधाई दी
खूब साथ हसे
दूर होते हुए भी
नजदीक होने का एहसास हुआ
आप का ही अंश हूं
ये एहसास हुआ
मेरे होने से पहले
मैं आपमे मौजूद था
ये भी एहसास हुआ
जब में हंसता हूं
मां के होंट भी
मुस्कराते होंगे
जब में दुखी होता हूं
तो वो आंखें भी
भीग जाती होंगी
दूरियों का क्या है
एहसास से तो
हम पास पास हैं
तो आज चलो
अपनी सालगिरह साथ मनाएं
https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=130889955116486&id=102792754592873